द्रवित पेट्रोलियम गैस(Liquified Petrolium Gas-LPG) क्या होती हैं ?

प्रथ्वी  के  अंदर  पेट्रोलियम  के  साथ-साथ  प्राकतिक  गैस  भी  विधमान  रहती  है|  प्राकतिक  गैस  मेथेन, ऐथेन,  प्रोपेन  आदि   गैसीय  हाईडृोकार्बन  और  H2,N2  और  CO2  आदि  होती  है|  जब   प्राकतिक  गैस  पर  उच्च  दाब  लगाते  है  तो  इसकी  प्रोपेन  और  butane  द्रवित होकर पृथक  हो  जाती  है | इस  द्रवित  ईंधन  को  उच्च  दाब   पर  स्टील  के  सिलिंडरो  मे  भर  लेते  है  और  यह  गैसो  का  द्रव  mixture, द्रवित  पेट्रोलियम  गैस  LPG  कहलाता  है|  दाब  हाटने  पर   द्रवित  गैस  पुनः  गैसीय  अवस्था  मे  आ  जाती  है| द्रवित  पेट्रोलियम  गैस  के  मुख्य  अवयव  n-butane,  आइसो butane,  butanil  और  प्रोपेन  होते  है।

इसका   उष्मीय  मान  लगभग  27,800  किलो कैलोरी  प्रति  मीटर3  होता  है|

LPG, Liquified Petrolium Gas
यह  इंडियन  और  भारत  गैस  आदि  नामो  के  अंतर्गत  सिलेंडरो  मे  उच्च  दाब(Pressure)  पर  उपलब्ध  होती  है।
एलपीजी  से  भरे  सिलिंडर  का  वाल्व(Valve)  पर  दाब(Pressure)  कम  होने  के  फलस्वरूप  द्रवित  गैस  वाष्प  रूप  मे  वर्नर  मे  प्रवेश  करती  है।  यह  जालने  पर  नीली  लो( Blue Light)  के  साथ  जलती  है  जिससे  प्रयाप्त  ताप(Temperature)  उत्पन्न  होता   है
 
उपयोग(Use)-  यह  घरेलू  ईंधन  के  रूप  मे  अधिक  प्रयोग  की  जाती  है|  यह  मोटर  ईंधन  के  रूप  मे  भी  प्रयोग  मे  लायी  जाने  लायी  जाने  लगी  है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top